Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

हर वक़्त हूँ किसी न किसी इम्तिहान में
शायद इसीलिए है ये तल्ख़ी ज़ुबान में

अपनी अना की क़ैद से बाहर निकल के देख
पैवंद लग चुके हैं तेरी आन-बान में

सोह्बत बुरी मिली तो ग़लत काम भी हुए
वैसे कोई कमी तो न थी ख़ानदान में

ग़म भी, ख़ुशी भी, आह भी, आँसू भी, रंज भी
सबको जगह मिली है मेरी दास्तान में

नींदों की जुस्तजू में लगे हैं तमाम ख़्वाब
सज-धज के आ गया है कोई उनके ध्यान में

दरवाज़ा खटखटाए चले जा रहे हो ‘नाज़’
लगता है कोई शख़्स नहीं है मकान में

463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेईमानी का फल
बेईमानी का फल
Mangilal 713
वीरांगना लक्ष्मीबाई
वीरांगना लक्ष्मीबाई
Anamika Tiwari 'annpurna '
आदत से मजबूर
आदत से मजबूर
Surinder blackpen
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
Manisha Manjari
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
बातों में बनावट तो कही आचरण में मिलावट है
बातों में बनावट तो कही आचरण में मिलावट है
पूर्वार्थ
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
Lakhan Yadav
*भारत*
*भारत*
सुनीलानंद महंत
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
Loading...