Sep 10, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

हर वक़्त हूँ किसी न किसी इम्तिहान में
शायद इसीलिए है ये तल्ख़ी ज़ुबान में

अपनी अना की क़ैद से बाहर निकल के देख
पैवंद लग चुके हैं तेरी आन-बान में

सोह्बत बुरी मिली तो ग़लत काम भी हुए
वैसे कोई कमी तो न थी ख़ानदान में

ग़म भी, ख़ुशी भी, आह भी, आँसू भी, रंज भी
सबको जगह मिली है मेरी दास्तान में

नींदों की जुस्तजू में लगे हैं तमाम ख़्वाब
सज-धज के आ गया है कोई उनके ध्यान में

दरवाज़ा खटखटाए चले जा रहे हो ‘नाज़’
लगता है कोई शख़्स नहीं है मकान में

132 Views
You may also like:
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H.
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
केंचुआ
Buddha Prakash
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H.
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
मेरे पापा!
Anamika Singh
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
Loading...