Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2023 · 1 min read

ग़़ज़ल

ग़ज़ल

मुझे तेरी तुझे मेरी अगर दूरी सताती है
मुहब्बत है तन्हाई में बहुत जब याद आती है/1

दिलों का मेल अपना जो रुहानी हो गया जानां
तुझे मेरी मुझे तेरी तभी हर बात भाती है/2

बिना तेरे अधूरा मन कहीं लगता नहीं अब तो
मैं दीपक हो गया जिसकी बनी तू ही तो बाती है/3

मिरी हर साँस तेरी है करूँ दीदार तेरा ही
तुम्हारे साथ हर धड़कन धड़क कर गीत गाती है/4

हँसी मुस्क़ान तेरी हर अदा पर मैं फ़िदा दिल से
तुम्हारा प्यार पाकर तो ज़ुबाँ मीठी हो जाती है/5

कभी दिल तोड़ मत देना गुज़ारिश दिल यही करता
हँसी तेरी मुहब्बत दे मुझे जीना सिखाती है/6

हुआ ‘प्रीतम’ अगर पागल लिए मक़सद सुहाना जो
मिलेगी कल वो मंज़िल आज जो दिल आजमाती है /7

आर. एस. ‘प्रीतम’

Language: Hindi
1 Like · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
"खुशी मत मना"
Dr. Kishan tandon kranti
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
मेरे अल्फाज याद रखना
मेरे अल्फाज याद रखना
VINOD CHAUHAN
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
*जाते साधक ध्यान में (कुंडलिया)*
*जाते साधक ध्यान में (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
माफ करना मैडम हमें,
माफ करना मैडम हमें,
Dr. Man Mohan Krishna
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...