Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार

ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
खुशियाँ मनाइए,होली में अबकी बार
कितनी भी हो उदास ये ज़िंदगी मगर
बस खिलखिलाइए,होली में अबकी बार

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
....प्यार की सुवास....
....प्यार की सुवास....
Awadhesh Kumar Singh
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
मौन
मौन
Shyam Sundar Subramanian
We are sky birds
We are sky birds
VINOD CHAUHAN
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
Bhupendra Rawat
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
प्रेम अटूट है
प्रेम अटूट है
Dr. Kishan tandon kranti
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
कल कल करती बेकल नदियां
कल कल करती बेकल नदियां
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
जिस देश मे पवन देवता है
जिस देश मे पवन देवता है
शेखर सिंह
Loading...