Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

ग़ज़ल _क़सम से दिल में, उल्फत आ गई है ।

ग़ज़ल
बह्र _ 1222 1222 122
****************************
1,,
क़सम से दिल में, उल्फत आ गई है ,
जो ठहरी थी , वो चाहत आ गई है ।
2,,
उलझते थे कभी हम भी सजन से ,
अभी लेकिन , शराफ़त आ गई है।
3,,
बहुत सख़्ती थी, जिनमें ज़िंदगी भर,
नसीबों से , नज़ाकत आ गई है।
4,,
समझते थे जिसे, कम अक्ल यारों ,
मुकद्दर से , ज़हानत आ गई है ।
5,,
कभी देखा था, तुमको ख़्वाब में ही ,
तुम्हारी शक्ल , राहत आ गई है ।
6,
परी जो आ गई थी , घर हमारे,
उसी की ये , शबाहत आ गई है ।
7,,
पसँद आई मेरी , गुड़िया किसी को ,
तभी तो “नील”, निस्बत आ गई है ।

✍️नील रूहानी,,,10/07/2024,,,
( नीलोफर खान )

1 Like · 23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
यही हाल आपके शहर का भी होगा। यक़ीनन।।
यही हाल आपके शहर का भी होगा। यक़ीनन।।
*प्रणय प्रभात*
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
तुम में एहसास
तुम में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"समय का मूल्य"
Yogendra Chaturwedi
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
चोर साहूकार कोई नहीं
चोर साहूकार कोई नहीं
Dr. Rajeev Jain
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सुनो, मैं सपने देख रहा हूँ
सुनो, मैं सपने देख रहा हूँ
Jitendra kumar
Sharing makes you bigger than you are. The more you pour out
Sharing makes you bigger than you are. The more you pour out
पूर्वार्थ
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
हम सम्भल कर चलते रहे
हम सम्भल कर चलते रहे
VINOD CHAUHAN
Loading...