Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

रस्ता, मंजिल बातें हुईं पुरानी अब,
नये शब्द में लिक्खें नई कहानी अब ।

बीमारी से आज की पीढ़ी लड़ती है,
खाद केमिकल खाकर पले जवानी अब ।

प्यास तिज़ारत कुछ लोगों की हाथों में ,
बेचें हमको हमी से लेके पानी अब ।

लोग बदी में ढूँढ रहें हैं अपनी खुशियाँ,
अच्छी आदत लगने लगी नादानी अब ।

ख़ुद पे यकीं नही है यकीं को इंसा क्या ,
करें फरिश्ते भी जैसे शैतानी अब I

कौतूहल का रंग लगे है फीका यूँ ,
कुछ भी होता होती नहि हैरानी अब I

भाव किताबी इंसा की इंसानियत I
‘महज़’ रह गयी बनके एक निशानी अब ।

Language: Hindi
2 Likes · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
Nanki Patre
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
"झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Harendra Kumar
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
Er. Sanjay Shrivastava
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
सिद्धार्थ गोरखपुरी
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
उस रात .....
उस रात .....
sushil sarna
Loading...