Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

थोड़ा-थोड़ा-सा काम का हूँ मैं ।
कौन क्या है ये जानता हूँ मैं ?

यूँ नहीं आपसे मेरा रिश़्ता,
आपको दिल से मानता हूँ मैं ।

दूसरों को कभी नहीं देखा,
ख़ुद के भीतर ही झाँकता हूँ मैं ।

डोर माँ ने जो बाँध दी मुझको,
माँ नहीं है मगर बँधा हूँ मैं ।

नाम “ईश्वर” रखा पिताजी ने,
उनके चरणों की वंदना हूँ मैं ।

—– ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
2 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सहर देना"
Dr. Kishan tandon kranti
सलाह .... लघुकथा
सलाह .... लघुकथा
sushil sarna
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
Ravi Betulwala
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
आगे बढ़कर जीतता, धावक को दे मात (कुंडलिया)
आगे बढ़कर जीतता, धावक को दे मात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*यार के पैर  जहाँ पर वहाँ  जन्नत है*
*यार के पैर जहाँ पर वहाँ जन्नत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
Paras Nath Jha
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
हम तुम
हम तुम
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
यह जो आँखों में दिख रहा है
यह जो आँखों में दिख रहा है
कवि दीपक बवेजा
"जयचंदों" को पालने वाले
*Author प्रणय प्रभात*
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...