Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Dec 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

छोड़ कर मुझको गए तो सिसकियां रह जाएंगी।
याद आएगी मेरी बस हिचकियां रह जाएंगी।
❤️
जब तलक है ज़िंदगी तुमको मेरी की़मत नहीं।
बाद मेरे फिर सितम की आंधियां रह जाएगी।
❤️
देर से इंसाफ़ पर जब तोड़ दे मज़लूम को।
फिर अदालत को लिखी सब अर्जि़यां रह जाएंगी।
❤️
हिंदी उर्दू के लिए कोई तअ़स्सुब गर रहा।
फिर कोई भाषा बचे ना बोलियां रह जाएंगी।
❤️
जिंदगी में मुश्किलें है फिर भी यह आसान है।
चाहे जितनी खेल लोगे पारियां रह जाएंगी।
❤️
वक्फ़ कर दो जिंदगी को दूसरों के नाम पर।
हम नहीं होंगे मगर यह तख्तियां रह जाएं गी।
❤️
प्यार को नीलाम कर दोगे सरे बाजार तो।
जिस्म की बोली लगेगी मंडियां रह जाएं गी ।
❤️
आसमानों की बुलंदी तक पहुंचती बेटियां।
हौसला इनका जो टूटा बेड़ियां जाएंगी।
❤️
वह फरिश्ते होंगे लेकिन हम “सगीर” इंसान हैं।
लाख हम कोशिश करें पर गलतियां रह जाएंगी।

Language: Hindi
1 Like · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
Subhash Singhai
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
दुखों से दोस्ती कर लो,
दुखों से दोस्ती कर लो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
World Environment Day
World Environment Day
Tushar Jagawat
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
कार्तिक नितिन शर्मा
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
ज़िंदगी मौत,पर
ज़िंदगी मौत,पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...