Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

#ग़ज़ल :–

#ग़ज़ल :–
■ कोहराम हो गया…..!
【प्रणय प्रभात】

★ दिल का क़त्ले-आम हो गया।
अपना काम तमाम हो गया।।

★ कल तक सुर्खी में रहता था।
वो चेहरा गुमनाम हो गया।।

★ आलिम बस खादिम बन पाया।
पर जाहिल हुक़्क़ाम हो गया।।

★ ज़ालिम ने बस खेल किया था।
इश्क़ मगर बदनाम हो गया।।

★ उस ने महफ़िल नई सजा ली।
दुनिया मे कोहराम हो गया।।

★ बद पर आमादा है नादाँ।
समझ रहा है नाम हो गया।।

★ कल आएगा अख़बारों में।
वो किस्सा जो आम हो गया।।

★ अपना दिन है अपनी रातें।
अपना वक़्त ग़ुलाम हो गया।।

■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
गुमनाम 'बाबा'
जग में उदाहरण
जग में उदाहरण
Dr fauzia Naseem shad
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
मल्हारी गीत
मल्हारी गीत "बरसी बदरी मेघा गरजे खुश हो गये किसान।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आओ मृत्यु का आव्हान करें।
आओ मृत्यु का आव्हान करें।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
न किसी से कुछ कहूँ
न किसी से कुछ कहूँ
ruby kumari
2645.पूर्णिका
2645.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रामदीन की शादी
रामदीन की शादी
Satish Srijan
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
मुड़े पन्नों वाली किताब
मुड़े पन्नों वाली किताब
Surinder blackpen
मेरे कुछ मुक्तक
मेरे कुछ मुक्तक
Sushila joshi
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
Kshma Urmila
!! यह तो सर गद्दारी है !!
!! यह तो सर गद्दारी है !!
Chunnu Lal Gupta
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
Loading...