Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

चांद सितारे बादल प्यारे शाम सवेरा एक तरफ।
सारी दुनिया एक तरफ है उसका चेहरा एक तरफ।

मुझ से अगर वह रूठ भी जाए तब भी प्यारी लगती है।
प्यार से उसका माथा चूमूं,उसका झगड़ा एक तरफ।

जिस पर उसने उंगली रख दी उसको उसने अनमोल किया।
उसके निगाहों की है कीमत सस्ता महंगा एक तरफ।

सारी दुनिया कुछ भी बोले लगता शोर शराबा है।
सब की बातें एक तरफ है उसको सुनना एक तरफ

जख्मों पर मरहम की जरूरत दर्द का दरमा लाजिम है।
सारी दवाएं एक तरफ है तेरा छूना एक तरफ।

सब ने सारी दुनिया मांगी मैंने बस उसको मांगा।
सबका सपना एक तरफ “सगीर” का सपना एक तरफ.

Language: Hindi
1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनकी तस्वीर
उनकी तस्वीर
Madhuyanka Raj
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
कवि दीपक बवेजा
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
आज के जमाने में
आज के जमाने में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
कुतूहल आणि जिज्ञासा
कुतूहल आणि जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
माँ
माँ
Er. Sanjay Shrivastava
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
माटी के रंग
माटी के रंग
Dr. Kishan tandon kranti
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
Loading...