Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

ग़ज़ल

“इंतिहाँ अब हो गई”

काफ़िया-आने
रदीफ़-आइए
वज़्न-2122 2122 2122 212

तोड़ खामोशी सनम मुझको रुलाने आइए।
है फ़रेबी यार उल्फ़त आज़माने आइए।

वादियों ने राग छेड़ा थम गई धड़कन मेरी
थरथराते लब मेरे मुझको हँसाने आइए।

दर्द उठ-उठ के तमन्ना प्यार की ताज़ा करे
इल्तिज़ा है रस्म-उल्फ़त को निभाने आइए।

ज़ख्म के नासूर से मरहम पिघलता जा रहा
कह रही तन्हाई फिर से लौ जलाने आइए।

थाम लीं तन्हाइयाँ देंगी दग़ा न वो मुझे
मिट रहे अहसास लफ़्ज़ों में सुनाने आइए।

तुम रहोगे तो सज़ा देते रहोगे उम्र भर
इंतिहाँ अब हो गई मुझको भुलाने आइए।

और कोई ज़ुल्म “रजनी” क्या सताएगा मुझे
हसरतों का एक दिन मातम मनाने आइए।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना”
महमूरगंज, वाराणसी।
संपादिका-साहित्य धरोहर

466 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गरीबी मैं खानदानी हूँ
गरीबी मैं खानदानी हूँ
Neeraj Mishra " नीर "
“ भाषा की मृदुलता ”
“ भाषा की मृदुलता ”
DrLakshman Jha Parimal
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
Dr MusafiR BaithA
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
"आओ बचाएँ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की तस्वीर
यादों की तस्वीर
Dipak Kumar "Girja"
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
समय भी दो थोड़ा
समय भी दो थोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
First impression is personality,
First impression is personality,
Mahender Singh
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
..
..
*प्रणय प्रभात*
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
Ravi Prakash
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
झूठा तन का आवरण,
झूठा तन का आवरण,
sushil sarna
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
Rajendra Kushwaha
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Chahat
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
जीवन और रोटी (नील पदम् के दोहे)
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
Loading...