Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

ग़ज़ल

कर्ज था कोई जो उतार आए
जिंदगी तुझको हम गुज़ार आए।

हमने तो कोई भी खता ना की
दर्र जितने मिले उधार आए।

हम भी शिकवे गिले भुला देंगें
तू अगर पास एक बार आए।

ख्वाब बस ख्वाब ही रहे मेरे
यूँ तो कहने को बार बार आए।

मैं तेरे सारे गम उठा लूँगी
तेरी ज़ानिब से इख्तियार आए।

कितनी उम्मीद से गए थे मगर
आपके दर से बेकरार आए।

इश्क शतरंज की तरह था तेरा
जान पे दिल था हम सौ हार आए।

दिल लगाने की ये सज़ा है निधि
चैन आए ना अब करार आए।

निधि मुकेश भार्गव

1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
Stages Of Love
Stages Of Love
Vedha Singh
इश्क़  जब  हो  खुदा  से  फिर  कहां  होश  रहता ,
इश्क़ जब हो खुदा से फिर कहां होश रहता ,
Neelofar Khan
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
sushil sarna
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
Rituraj shivem verma
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
Jogendar singh
सबको
सबको
Rajesh vyas
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
क्या मिला मुझको उनसे
क्या मिला मुझको उनसे
gurudeenverma198
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
उम्मींदें तेरी हमसे
उम्मींदें तेरी हमसे
Dr fauzia Naseem shad
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
Loading...