Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

बहार बाग़े ‌ इरम और रंगो-बू क्या है
तेरे बग़ैर मुझे इनकी आरज़ू क्या है

गिरा दिया है जो तुमने मुझे निगाहों से
तुम्हारी आँख में मुझ जैसा हू-ब-हू क्या है

तुम्हारे दिल की रियासत पे राज है मेरा
मेरे लिए ये भला दिल्ली-लखनऊ क्या है

ये एक चेहरा कि जिससे हसीन है मंज़र
अगर ये तू नहीं तो मेरे रू-ब-रू क्या है

ज़रा सी चोट से ये चूर-चूर हो जाये
ये आदमी है या शीशा है या सुबू क्या है

जिसे भी देखो वही होश में नहीं है अब
कोई बताये कि गेसूए-मुश्कबू क्या है

ज़रा सी बात पे चलते हैं खंजरो नश्तर
हमारे शह्र में अब क़ीमते लहू क्या है

✍️जितेन्द्र कुमार ‘नूर’
असिस्टेंट प्रोफेसर
डी ए वी पी जी कॉलेज आज़मगढ़

4 Likes · 2 Comments · 787 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
रास्ता तुमने दिखाया...
रास्ता तुमने दिखाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
❤️ DR ARUN KUMAR SHASTRI ❤️
❤️ DR ARUN KUMAR SHASTRI ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
■ उलाहना
■ उलाहना
*प्रणय प्रभात*
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
Phool gufran
वीर जवान --
वीर जवान --
Seema Garg
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
Ravi Prakash
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
Monika Arora
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
2342.पूर्णिका
2342.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
Trishika S Dhara
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...