Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

ग़ज़ल

कभ्भो पत्थर भी फूल हो जाला ..
प्यार से जब कुबूल हो जाला
जेकरा काँटा भरल ह मनवा में
फूल ओकरा फिज़ूल हो जाला.
जब चले मन में तीन कै तेरह
बिना चहले भी भूल हो जाला
कर्ज एहसान कै जे खा जाला
ब्याज सम्मित वसूल हो जाला
जे ‘महज़’ सब बेकार देखेला
ओके कुमकुम भी धूल हो जाला

2 Likes · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
रूह का छुना
रूह का छुना
Monika Yadav (Rachina)
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
बचाओं नीर
बचाओं नीर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
पापा गये कहाँ तुम ?
पापा गये कहाँ तुम ?
Surya Barman
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
याद कितनी खूबसूरत होती हैं ना,ना लड़ती हैं ना झगड़ती हैं,
याद कितनी खूबसूरत होती हैं ना,ना लड़ती हैं ना झगड़ती हैं,
शेखर सिंह
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3522.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3522.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
आर.एस. 'प्रीतम'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
मैं भारत का जन गण
मैं भारत का जन गण
Kaushal Kishor Bhatt
Loading...