Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
बादलों का एक टुकड़ा, गगन में आया तो है।
बारिशों की ख़्वाहिशों ने, पँख फैलाया तो है।

कब से जाने जल रहे थे, धूप से ये तन-बदन;
और कुछ हो या न हो, कुछ देर को छाया तो है।

ख़ुद तो आया ही किसी राहत भरे ख़त की तरह;
साथ कुछ ठंडी हवा का, दौर भी लाया तो है।

हैं यहीं नज़दीक ही, हम मानसूनी क़ाफ़िले;
वहाँ से अपना यही पैग़ाम भिजवाया तो है।

इतना भी कम तो नहीं, ‘बृजराज’ तेरे वास्ते;
चन्द बूँदों ने सही, पर आज नहलाया तो है।

–बृज राज किशोर

217 Views
You may also like:
कर्मण्य के प्रेरक विचार
Shyam Pandey
मजदूर भाग -दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
दिल की तमन्ना
अनूप अंबर
स्वागत बा श्री मान
आकाश महेशपुरी
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
सोचना है तो मेरे यार इस क़दर सोचो
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिन्दी दिवस
Aditya Prakash
समय के उजालो...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
जलते हुए सवाल
Shekhar Chandra Mitra
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
जज बना बे,
Dr.sima
हास्य कथा : वजन पचपन किलो
Ravi Prakash
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा / मेरे नायक
*Author प्रणय प्रभात*
रामचरित पे संशय (मुक्तक)
पंकज कुमार कर्ण
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
कॉल
Seema 'Tu hai na'
गीत - कौन चितेरा चंचल मन से
Shivkumar Bilagrami
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
श्वान प्रेम
Satish Srijan
हो नये इस वर्ष
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
🦋🦋दिल में बसाते हैं, पर एतबार नहीं करते🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
Loading...