Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
बादलों का एक टुकड़ा, गगन में आया तो है।
बारिशों की ख़्वाहिशों ने, पँख फैलाया तो है।

कब से जाने जल रहे थे, धूप से ये तन-बदन;
और कुछ हो या न हो, कुछ देर को छाया तो है।

ख़ुद तो आया ही किसी राहत भरे ख़त की तरह;
साथ कुछ ठंडी हवा का, दौर भी लाया तो है।

हैं यहीं नज़दीक ही, हम मानसूनी क़ाफ़िले;
वहाँ से अपना यही पैग़ाम भिजवाया तो है।

इतना भी कम तो नहीं, ‘बृजराज’ तेरे वास्ते;
चन्द बूँदों ने सही, पर आज नहलाया तो है।

–बृज राज किशोर

131 Views
You may also like:
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रफ्तार
Anamika Singh
अपराधी कौन
Manu Vashistha
कलम
Dr Meenu Poonia
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H. Amin
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
Save the forest.
Buddha Prakash
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
हमारी जां।
Taj Mohammad
कारस्तानी
Alok Saxena
गांव के घर में।
Taj Mohammad
Loading...