Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)

क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन है
हमने खुद को पाया है बस खुदगर्जी के घेरे में

एक जमी वख्शी थी कुदरत ने हमको यारो लेकिन
हमने सब कुछ बाट दिया मेरे में और तेरे में

आज नजर आती मायूसी मानबता के चहेरे पर
अपराधी को शरण मिली है आज पुलिस के डेरे में

बीरो की क़ुरबानी का कुछ भी असर नहीं दीखता है
जिसे देखिये चला रहा है सारे तीर अँधेरे में

जीवन बदला भाषा बदली सब कुछ अपना बदल गया है
अनजानापन लगता है अब खुद के आज बसेरे में

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)
मदन मोहन सक्सेना

210 Views
You may also like:
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
हमारी जां।
Taj Mohammad
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
दुआ
Alok Saxena
मां बाप की दुआओं का असर
Ram Krishan Rastogi
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
याद आते हैं।
Taj Mohammad
मांडवी
Madhu Sethi
कभी कभी।
Taj Mohammad
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
If we could be together again...
Abhineet Mittal
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
Loading...