Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)

क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन है
हमने खुद को पाया है बस खुदगर्जी के घेरे में

एक जमी वख्शी थी कुदरत ने हमको यारो लेकिन
हमने सब कुछ बाट दिया मेरे में और तेरे में

आज नजर आती मायूसी मानबता के चहेरे पर
अपराधी को शरण मिली है आज पुलिस के डेरे में

बीरो की क़ुरबानी का कुछ भी असर नहीं दीखता है
जिसे देखिये चला रहा है सारे तीर अँधेरे में

जीवन बदला भाषा बदली सब कुछ अपना बदल गया है
अनजानापन लगता है अब खुद के आज बसेरे में

ग़ज़ल ( सच्चा झूठा)
मदन मोहन सक्सेना

354 Views
You may also like:
सिपाही
Buddha Prakash
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हाइकू (मैथिली)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
उसकी रज़ा में
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो नहीं जब पा रहे हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
✍️✍️उलझन✍️✍️
'अशांत' शेखर
भीड़
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मै लाल किले से तिरंगा बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
यही आदत ही तो
gurudeenverma198
"उज्जैन नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य"
Pravesh Shinde
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
Taj Mohammad
सलाम
Shriyansh Gupta
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
*बॉंसुरी बंधु बजाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
आइए डिजिटल उपवास की ओर बढ़ते हैं!
Deepak Kohli
तुम बूंद बंदू बरसना
Saraswati Bajpai
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी शक्ति के नौरूपों की आराधना नौरात एव वर्तमान में...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...