Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम।
मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम।
❤️
सुर्ख गुलाबों का गुलदस्ता आ जा तुझको पेश करूं।
सारी बगिया सारा बगीचा सारा दरीचा तेरे नाम।
❤️
फूलों की खुशबू, चांद,चांदनी,बहती रातें,तेरी बात।
तुझ से मिलन का हर एक लम्हा,सारा वसीला तेरे नाम।
❤️
शाम में अवध और सुबहे बनारस जैसे मन को भाता है।
सुबह सवेरे पहली रश्मि पहला उजाला तेरे नाम।
❤️
बर्गे गुल से होंट तुम्हारे,हिरनी जैसी आंखें हैं।
झील में खिलता फूल कमल का तेरे नाम।
❤️
तेरी यादें तेरी बातें ला महदूद समंदर है।
चाहत का इकलौता जजीरा तेरे नाम।
❤️
तेरे साथ गुजारे जितने सारे मंज़र अच्छे है।
सारे मंज़र उनका जलवा तेरे नाम।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️
Dr SAGHEER AHMAD SIDDIQUI KHAIRA BAZAR BAHRAICH

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
संसद उद्घाटन
संसद उद्घाटन
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक- 292💐
💐प्रेम कौतुक- 292💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जीवन सरल जिएँ हम प्रभु जी ! सीधा सच्चा सादा (भक्ति-गीत)*
*जीवन सरल जिएँ हम प्रभु जी ! सीधा सच्चा सादा (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
संस्कृति से संस्कृति जुड़े, मनहर हो संवाद।
संस्कृति से संस्कृति जुड़े, मनहर हो संवाद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Y
Y
Rituraj shivem verma
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
Santosh Khanna (world record holder)
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
#देसी ग़ज़ल
#देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या यही प्यार है
क्या यही प्यार है
gurudeenverma198
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
Loading...