Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

तड़प दिल में,ज़ुबां पे तिश्नगी¹,आंखो में पानी है।
बहुत मासूम सा है इश्क़, ये पागल जवानी है।

बहुत मुश्किल है इज़हारे मुहब्बत²,जां फिशानी³ है।
तजस्सुस⁴ उसकी है,और बात भी मुझको बतानी है।

मोहब्बत के तक़ाज़े⁵ के लिए छोटी है यह दुनिया।
हुआ जो इश्क़ में पागल फ़हम⁶ की यह निशानी है।

ख़फा⁷ अपने हुए तो लुट गई अरमान की दुनिया।
कभी फुर्सत में गम की दास्तां⁸ उनको सुनानी है।

जहां पर छोड़कर मुझको गए थे लौटकर आना।
यहां हर एक ज़र्रे⁹ में मोहब्बत की निशानी है।

मुहब्बत एक खुशबू है,किसी बंदिश न पहरे में,
कही राधा दीवानी है कहीं मीरा दीवानी है।

यहां नफरत के सौदागर,सभी दुश्मन मोहब्बत के।
मगर यह ज़िंदगी तो चंद सांसों की रवानी¹⁰ है।

खुदा मेरे सफी़ने¹¹ को मयस्सर करना तू साहि़ल¹²।
समंदर में है तुग़यानी¹³,मेरी कश्ती¹⁴ पुरानी है।

ग़ज़ल में और नग़मों में लिखा करते है हाले दिल।
“सगी़र” उसका जो अफ़साना¹⁵ वही मेरी कहानी है।

डाक्टर सगीर अहमद सिद्दीकी

[शब्दार्थ
1 प्यास 2 प्रेम प्रकटीकरण 3 प्राण कष्ट में पड़ना, बेचैनी 4 जिज्ञासा, जानने की इच्छा 5 मांग, किसी को दिया गया ऋण की वापसी 6 ज्ञान, समझ 7 नाराज, असंतुष्ट 8 कथा, कहानी 9 कण 10 बहाव,11 नाव,कश्ती 12 नदी का किनारा river bank, 13 तूफान,सैलाब, 14 नाव,नौका 15 कथा, कहानी

Language: Hindi
54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"रेल चलय छुक-छुक"
Dr. Kishan tandon kranti
3271.*पूर्णिका*
3271.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
sushil sarna
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
वर्तमान में जो जिये,
वर्तमान में जो जिये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
■ कोई तो हो...।।
■ कोई तो हो...।।
*Author प्रणय प्रभात*
...........
...........
शेखर सिंह
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
Shweta Soni
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
Paras Nath Jha
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
Anamika Tiwari 'annpurna '
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
💐प्रेम कौतुक-556💐
💐प्रेम कौतुक-556💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
Sûrëkhâ
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
Loading...