Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

अहसास नहीं होता उसे अब कमर का दर्द।
महसूस जिसने कर लिया है सारे घर का दर्द।

बेटी चिमट गई मेरे सीने से आके जब।
खुशियों में फिर बदल गया मेरे सफर का दर्द।

जलते हैं मुझसे आज जो मंजिल पे देख कर।
किसको पता है
कैसा है ऐब ओ हुनर का दर्द।

जिसकी खुशी में अपनी खुशी,मानते रहे।
उसने ही मुझको दे दिया है उम्र भर का दर्द।

सबके गमों में भूल गया है जो अपने गम।
कोई नहीं समझ रहा उस चारागर का दर्द।

उसकी जुदाई मान लिया रब का फैसला।
बढ़ जाए न सगीर मेरे हमसफर का दर्द।

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
Rambali Mishra
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कवि दीपक बवेजा
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"तेरी यादों ने दिया
*Author प्रणय प्रभात*
मुझमें भी कुछ अच्छा है
मुझमें भी कुछ अच्छा है
Shweta Soni
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
Loading...