Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– महँगाई (व्यंग)

!! मंहगाई !! [गजल]

बेबस और बेजान हैं सब अपने घर वार मे !
आंसू ले दस्तक दिये सावन के त्योहार ने !!

अच्छे दिन की होड मे न्योत दिये मेंहमान !
हालत खस्ता कर गई मंहगाई की मार ने !!

लेखा जोखा लगा लगा कर चिन्तन करते भाव !
अंक गणित हमे सिखा गई मंहगाई उपहार मे !!

खा पी कर मोटे हुए जब हल्के थे दाम !
डाइटिंग करना सिखा गई मंहगाई एक वार मे !!

मन की टेंसन दूर हुई हुआ रक्तचाप सामान्य !
धंधा मंदा पड गया मंदी के व्यापार मे !!

गर्दी ट्रेन पे कम हुई सफर हुआ आसान !
कदम फूंक-२ कर रखते सब मंहगे बाजार मे !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ Rãthí
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
*जिंदगी का क्या भरोसा, कौन-सा कब मोड़ ले 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*जिंदगी का क्या भरोसा, कौन-सा कब मोड़ ले 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
पूर्वार्थ
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
अपनी क़ीमत कोई नहीं
अपनी क़ीमत कोई नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मर मिटे जो
मर मिटे जो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh Manu
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मानसिक जड़ता
मानसिक जड़ता
Shekhar Chandra Mitra
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
Ajad Mandori
💐अज्ञात के प्रति-37💐
💐अज्ञात के प्रति-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
Loading...