Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा
°~°~°~°~°~°~°~°~°~°~°~°

पल पल कितना डर लगता है
कातिल अपना घर लगता है

डर के रँग में रँग जाए तो
क्या कोई सुन्दर लगता है

धरती ने ऐसे झकझोरा
हीरा भी पत्थर लगता है

हम भी मर जायेंगे शायद
रोजाना अक्सर लगता है

बाहर है यह साया कैसा
मौत खड़ी अन्दर लगता है

उम्मीदों का पंछी घायल
देखें कैसै पर लगता है

कैसे हम ‘आकाश’ रहेंगे
छूते सब खंजर लगता है

– आकाश महेशपुरी

431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कायम रखें उत्साह
कायम रखें उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
■ आज का अनूठा शेर।
■ आज का अनूठा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"यात्रा संस्मरण"
Dr. Kishan tandon kranti
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
तेरी दुनिया में
तेरी दुनिया में
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-354💐
💐प्रेम कौतुक-354💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*नन्ही सी गौरीया*
*नन्ही सी गौरीया*
Shashi kala vyas
पहले प्यार में
पहले प्यार में
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
दो पल का मेला
दो पल का मेला
Harminder Kaur
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2994.*पूर्णिका*
2994.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...