Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा

ग़ज़ल- धरती ने ऐसे झकझोरा
°~°~°~°~°~°~°~°~°~°~°~°

पल पल कितना डर लगता है
कातिल अपना घर लगता है

डर के रँग में रँग जाए तो
क्या कोई सुन्दर लगता है

धरती ने ऐसे झकझोरा
हीरा भी पत्थर लगता है

हम भी मर जायेंगे शायद
रोजाना अक्सर लगता है

बाहर है यह साया कैसा
मौत खड़ी अन्दर लगता है

उम्मीदों का पंछी घायल
देखें कैसै पर लगता है

कैसे हम ‘आकाश’ रहेंगे
छूते सब खंजर लगता है

– आकाश महेशपुरी

322 Views
You may also like:
*संविधान गीत*
कवि लोकेन्द्र ज़हर
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
फ्रस्ट्रेटेड जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
जनतंत्र में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
"फौजियों की अधूरी कहानी"
Lohit Tamta
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नोटबंदी 2016 के दौर में लिखी गई एक रचना
Ravi Prakash
" मेरी सजगता "
DrLakshman Jha Parimal
मेरी निंदिया तेरे सपने ...
Pakhi Jain
अ से अगर मुन्ने
gurudeenverma198
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
मंजिल की धुन
Seema 'Tu hai na'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!! समय का महत्व !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
हर्फ ए मुश्किल है यूं आसान न समझा जाए
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️जन्मदिन✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️एक ख्वाइश बसे समझो वो नसीब है
'अशांत' शेखर
उसका हर झूठ सनद है, हद है
Anis Shah
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
समय का महत्व ।
Nishant prakhar
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
अंतर दीप जले ?
मनोज कर्ण
सवाल कब
Dr fauzia Naseem shad
Loading...