Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले

उलझन को सुलझाने निकले
हम ख़ुद को दफ़नाने निकले

नए नए अल्फ़ाज़ पहन कर
कितने दर्द पुराने निकले

राम-राज के धोबी सारे
सबके मुँह से ताने निकले

पुरस्कार समझा था जिनको
वो सारे हर्जाने निकले

सुख-दुख जीवन की चादर के
यारो ताने-बाने निकले

हम भी कम हुशियार नहीं थे
तुम भी बहुत सयाने निकले

असली तो गुमनाम हुए हैं
नकली जाने-माने निकले

सच को सच कहने की ठानी
‘शाहिद’ भी दीवाने निकले

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
Sushila joshi
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गिद्ध करते हैं सिद्ध
गिद्ध करते हैं सिद्ध
Anil Kumar Mishra
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
"हाथों की लकीरें"
Dr. Kishan tandon kranti
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
"You will have days where you feel better, and you will have
पूर्वार्थ
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो सपने, वो आरज़ूएं,
वो सपने, वो आरज़ूएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
अपने ही हाथों
अपने ही हाथों
Dr fauzia Naseem shad
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
Loading...