Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल — ज़माना ढूँढते हैं !!

ग़ज़ल — ज़माना ढूँढते हैं !!

प्यास लगे तो पैमाना ढूँढते हैं !
भरी महफिल में मयखाना ढूँढते हैं !!

जाम आशिकी का पीने वाले !
महबूब की बाहों में ठिकाना ढूँढते हैं !!

तीर नज़रों से घायल दिल अब !
मदहोश आँखों में आशियांना ढूँढते हैं !!

कहीँ महफिल यादगार बनी !
कोई ग़म भुलाने का बहाना ढूँढते हैं !!

“अनुज” आज भी “इंदवार” में जाकर !
अपना वो गुजरा ज़माना ढूँढते हैं !!

अनुज “इंदवार”

1 Like · 354 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#आज_की_बात
#आज_की_बात
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
"विश्वास"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
शेखर सिंह
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
Ravi Prakash
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
कवि दीपक बवेजा
बात क्या है कुछ बताओ।
बात क्या है कुछ बताओ।
सत्य कुमार प्रेमी
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
नींद
नींद
Diwakar Mahto
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...