Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 7, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल — ज़माना ढूँढते हैं !!

ग़ज़ल — ज़माना ढूँढते हैं !!

प्यास लगे तो पैमाना ढूँढते हैं !
भरी महफिल में मयखाना ढूँढते हैं !!

जाम आशिकी का पीने वाले !
महबूब की बाहों में ठिकाना ढूँढते हैं !!

तीर नज़रों से घायल दिल अब !
मदहोश आँखों में आशियांना ढूँढते हैं !!

कहीँ महफिल यादगार बनी !
कोई ग़म भुलाने का बहाना ढूँढते हैं !!

“अनुज” आज भी “इंदवार” में जाकर !
अपना वो गुजरा ज़माना ढूँढते हैं !!

अनुज “इंदवार”

281 Views
You may also like:
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा
सेजल गोस्वामी
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
बंदर भैया
Buddha Prakash
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Kanchan Khanna
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
पिता
Meenakshi Nagar
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
Loading...