Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2021 · 1 min read

गहरे

✒️?जीवन की पाठशाला ??️

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की जीवन में कभी भी किसी के हालातों के हिसाब से व्यक्ति का आकलन नहीं करना चाहिए क्यूंकि ठहरे हुए दरिया अक्सर गहरे होते हैं …

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की इस झूटी दुनियादारी के दौर में अगर आप सब कुछ चुपचाप सहन कर लेते हो तो सही हो मगर जैसे ही आपने गलत का विरोध किया या मुँह खोला तो आप सबसे बुरे …खामोश रहना बयां करने से बेहतर …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की बुरे वक़्त के दौर में कई बार हमें उस रद्दी के अखबार की तरह अलग कर दिया जाता है जिसका कभी बेसब्री से इंतजार किया जाता था -जिसके बिना चाय अच्छी नहीं लगती थी -जिसके बिना दिन अधूरा लगता था …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की गलत समय के दौर में हर व्यक्ति हमसे इस तरह से अलग हो जाता है जैसे हाथों की हथेलियों से लकीरें …!

बाक़ी कल , अपनी दुआओं में याद रखियेगा ?सावधान रहिये-सुरक्षित रहिये ,अपना और अपनों का ध्यान रखिये ,संकट अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क ? है जरुरी …!
?सुप्रभात?
स्वरचित एवं स्वमौलिक
“?विकास शर्मा’शिवाया ‘”?
जयपुर-राजस्थान

Language: Hindi
Tag: लेख
192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
अरशद रसूल बदायूंनी
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
अर्ज किया है
अर्ज किया है
पूर्वार्थ
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
Phool gufran
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
#सामयिक_विमर्श
#सामयिक_विमर्श
*प्रणय प्रभात*
Loading...