Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

गली मुहल्लों से लश्कर निकालने वाले,

गली मोहल्लों से लश्कर निकालने वाले,
डरे हुवे हैं बहुत डर निकालने वाले,

ये सब ख़ज़ानों के चक्कर में आ के बेठे हैं,
मेरी ज़मीनों से पत्थर निकालने वाले,

गले लगाएंगे हमको बड़े ख़ुलूस के साथ,
ये आस्तीनों से खंज़र निकालने वाले,

हमेशा खून ख़राबा पसंद करते हैं,
छतों से अपनी कबूतर निकालने वाले,

मुझे यक़ीन है दुनिया में फिर से आएंगे,
वो जंगलों से ग़ज़नफर निकालने वाले,

ग़ज़नफर=बब्बर शेर

——//अशफ़ाक़ रशीद,,,,,

366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पाने की आशा करना यह एक बात है
पाने की आशा करना यह एक बात है
Ragini Kumari
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3192.*पूर्णिका*
3192.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मलाल न था
मलाल न था
Dr fauzia Naseem shad
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
#आस्था_पर्व-
#आस्था_पर्व-
*प्रणय प्रभात*
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
Monika Arora
शब्दों का महत्त्व
शब्दों का महत्त्व
SURYA PRAKASH SHARMA
दुनियाभर में घट रही,
दुनियाभर में घट रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं निकल गया तेरी महफिल से
मैं निकल गया तेरी महफिल से
VINOD CHAUHAN
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
पंख पतंगे के मिले,
पंख पतंगे के मिले,
sushil sarna
बुंदेली दोहा- चंपिया
बुंदेली दोहा- चंपिया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
शेखर सिंह
"नेमतें"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...