Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

गर्मी

सूर्य दहकता आग सा है,
धरती जलती तवे सी!
इस गरमी के आगे,
फेल हुए कुलर -ए.सी!
दिन के तपन के बाद
जब संध्या बेला आई!
ठंडक तन में लिपट-लिपट,
लू की तपन बुझाई!
जब निशा समय गहराया,
हवा चली फिर धीमे -धीमे!
दूर से इस नील-गगन में
चमके तारे धीमे -धीमे!!

Language: Hindi
1 Comment · 592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्वश्रेष्ठ कर्म
सर्वश्रेष्ठ कर्म
Dr. Upasana Pandey
"कविता और प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Santosh kumar Miri
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
तू बेखबर इतना भी ना हो
तू बेखबर इतना भी ना हो
gurudeenverma198
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन्नतों के धागे होते है बेटे
मन्नतों के धागे होते है बेटे
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
बहर- 121 22 121 22 अरकान- मफ़उलु फ़ेलुन मफ़उलु फ़ेलुन
बहर- 121 22 121 22 अरकान- मफ़उलु फ़ेलुन मफ़उलु फ़ेलुन
Neelam Sharma
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*जीवन-नौका चल रही, सदा-सदा अविराम(कुंडलिया)*
*जीवन-नौका चल रही, सदा-सदा अविराम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सज्ज अगर न आज होगा....
सज्ज अगर न आज होगा....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
💐प्रेम कौतुक-561💐
💐प्रेम कौतुक-561💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
तेरी आदत में
तेरी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
Loading...