Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

परी

परी
कल रात मेरे सपने में आई थी एक सुंदर परी।
अपने साथ लाई थी चॉकलेट टॉफी ढेर सारी।
लाल, नीली, पीली, बैगनी, गुलाबी और हरी।
चॉकलेट पाने मेरे दोस्तों में मच गई मारामारी।
आपस में ही हमें उलझते देख बोली रानी परी।
यूँ छोटी सी बात पर लड़ना नहीं है समझदारी।
सबको मिलेगा, आओ तुम सब बारी-बारी।
बात का हुआ असर, खत्म हुई विवाद हमारी।
मम्मी जी के जगा देने से टूट गई नींद हमारी।
मुफ्त में टॉफी खाने की इच्छा रह गई अधूरी।

-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
थोड़ा सा मुस्करा दो
थोड़ा सा मुस्करा दो
Satish Srijan
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
*Author प्रणय प्रभात*
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2979.*पूर्णिका*
2979.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*राम मेरे तुम बन आओ*
*राम मेरे तुम बन आओ*
Poonam Matia
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
कवि दीपक बवेजा
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
भारती-विश्व-भारती
भारती-विश्व-भारती
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
याद कब हमारी है
याद कब हमारी है
Shweta Soni
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...