Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

गरीबी की उन दिनों में ,

गरीबी की उन दिनों में ,
तलब थी अमीर बनने की।
बड़े बड़े सपने थे मन में,
पर खाने को अन्न
और पहनने को न थे कपड़े।
कमरे के चार दीवारों पर ,
बुनते थे सपनेंं ।
निकल पड़ते थे पूरी करने,
पर कहने को न थे कोई अपने।
…..✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

1 Like · 2 Comments · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
यह दुनिया है जनाब
यह दुनिया है जनाब
Naushaba Suriya
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
shabina. Naaz
!! दो अश्क़ !!
!! दो अश्क़ !!
Chunnu Lal Gupta
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
बाबा लक्ष्मण दास की समाधि पर लगे पत्थर पर लिखा हुआ फारसी का
बाबा लक्ष्मण दास की समाधि पर लगे पत्थर पर लिखा हुआ फारसी का
Ravi Prakash
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"मिट्टी के आदमी "
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
Sarfaraz Ahmed Aasee
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...