गरीबी का मजाक (रिम्स घटना पर रचना)

क तुम यूँ मेरी गरीबी का मजाक मत उड़ाओ,
परमपिता परमात्मा के खेल बड़े निराले हैं।
इतिहास पढ़ना फुर्सत में सच जान जाओगे,
रंक से राजा और राजा से रंक बना डाले हैं।

ये अपमान केवल मेरा नहीं अन्न का भी है,
नसीबों वाले को ही मिलते इसके निवाले हैं।
एक दिन तरसोगे तुम दाने दाने को देखना,
अभी तो अमीरी के पड़ें आँखों पर जाले हैं।

अख़बार में पढ़कर खबर हल्ला मचा दिया,
पर हकीकत में हमने मुँह पर लगाये ताले हैं।
सरकार जाँच बिठाकर पल्ला झाड़ लेगी,
पहले भी सरकार ने बड़े बड़े मामले टाले हैं।

सुलक्षणा दोष किसका है तुम ही बता दो,
सच्चाई यही है इंसान आज मन से काले हैं।
तीन सौ करोड़ सालाना बजट है रिम्स का,
फिर भी हम गरीबों के लिए बर्तनों के लाले हैं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत े

198 Views
You may also like:
पिता का पता
श्री रमण
* उदासी *
Dr. Alpa H.
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
प्रकृति का क्रोध
Anamika Singh
बाबू जी
Anoop Sonsi
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
मिसाइल मैन
Anamika Singh
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
ग़ज़ल
kamal purohit
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
बदलती परम्परा
Anamika Singh
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
Loading...