Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2016 · 1 min read

गरीबी का मजाक (रिम्स घटना पर रचना)

क तुम यूँ मेरी गरीबी का मजाक मत उड़ाओ,
परमपिता परमात्मा के खेल बड़े निराले हैं।
इतिहास पढ़ना फुर्सत में सच जान जाओगे,
रंक से राजा और राजा से रंक बना डाले हैं।

ये अपमान केवल मेरा नहीं अन्न का भी है,
नसीबों वाले को ही मिलते इसके निवाले हैं।
एक दिन तरसोगे तुम दाने दाने को देखना,
अभी तो अमीरी के पड़ें आँखों पर जाले हैं।

अख़बार में पढ़कर खबर हल्ला मचा दिया,
पर हकीकत में हमने मुँह पर लगाये ताले हैं।
सरकार जाँच बिठाकर पल्ला झाड़ लेगी,
पहले भी सरकार ने बड़े बड़े मामले टाले हैं।

सुलक्षणा दोष किसका है तुम ही बता दो,
सच्चाई यही है इंसान आज मन से काले हैं।
तीन सौ करोड़ सालाना बजट है रिम्स का,
फिर भी हम गरीबों के लिए बर्तनों के लाले हैं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत े

Language: Hindi
447 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
मेनाद
मेनाद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
*कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)*
*कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
💐अज्ञात के प्रति-53💐
💐अज्ञात के प्रति-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
"तेरे इश्क़ में"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरत चेहरे
खूबसूरत चेहरे
Prem Farrukhabadi
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
बाल विवाह
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
2253.
2253.
Dr.Khedu Bharti
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
बेपरवाह बचपन है।
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh Manu
संसद को जाती सड़कें
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
■ शर्मनाक प्रपंच...
■ शर्मनाक प्रपंच...
*Author प्रणय प्रभात*
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
Loading...