Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,

गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
हर रोज़ इक नया सूरज, तो इक नया चांद उगाता हूं

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सन्देश"
Dr. Kishan tandon kranti
🌳 *पेड़* 🌳
🌳 *पेड़* 🌳
Dhirendra Singh
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
Sunil Maheshwari
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
।। आशा और आकांक्षा ।।
।। आशा और आकांक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Blabbering a few words like
Blabbering a few words like " live as you want", "pursue you
Sukoon
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
"वक्त की बेड़ियों में कुछ उलझ से गए हैं हम, बेड़ियाँ रिश्तों
Sakshi Singh
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
Loading...