Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल

कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल।
वह गया कलम छोड़ रोटी की दौड़ में निकल।

जितनी उगती है कंटीली झाड़ियाँ उगने दो यहाँ।
सूरज को गलबाँही दिए कोई भी आयेगा निकल।

आसमां और झुके और झुके तारा टूटेगा नहीं।
तुम नहीं बदलोगे जो कुछ नहीं पाएगा बदल।

बहुत कुछ तय था इस गाँव की नियति के लिए।
शहरी मछेरे पर आ गए घरों से निकल।

परिधि पे रेंग रही है चींटियों का काफिला।
और हथियों के झुंड रहे कदली वनों से निकल।
——————————————————–
अरुण कुमार प्रसाद

Language: Hindi
2 Likes · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो विष को पीना जाने
जो विष को पीना जाने
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कब किसके पूरे हुए,  बिना संघर्ष ख्वाब।
कब किसके पूरे हुए, बिना संघर्ष ख्वाब।
जगदीश लववंशी
मैं
मैं
Seema gupta,Alwar
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
कोई हुनर खुद में देखो,
कोई हुनर खुद में देखो,
Satish Srijan
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
तुम्हारे
तुम्हारे
हिमांशु Kulshrestha
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
"बहुत से लोग
*Author प्रणय प्रभात*
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
इबादत आपकी
इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
💐प्रेम कौतुक-386💐
💐प्रेम कौतुक-386💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
Loading...