Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2018 · 1 min read

गजल

इस मशीनी दौर में क्या हो रहा है आदमी।
खा नशे की गोलियों को सो रहा है आदमी।।

छा रही है हर तरफ, मतलबपरस्ती इस कदर।
स्वार्थमय रिश्तों को केवल ढो रहा है आदमी।।

जान दे देते थे कभी लोग ग़ैरों के लिए।
आजकल इंसानियत को खो रहा है आदमी।।

क्यों पड़ोसी सो रहा चादर को ताने चैन से।
बस इसी अफसोस में अब रो रहा है आदमी।।

दूरियां इतनी हुई हैं, दो दिलों के दरमियाँ।
प्यार से रहने की आदत खो रहा है आदमी।।

इस तरह बदलेगा करवट वक़्त सोचा था नहीं।
बीज नफ़रत के भला क्यों बो रहा है आदमी।।

है ‘विपिन’ की इल्तजा, इतनी सी सुनले या खुदा।
फिर वही लौटा दे जो सब खो रहा है आदमी।।
-विपिन शर्मा
रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल नंबर-9719046900

247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
gurudeenverma198
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
"धरती"
Dr. Kishan tandon kranti
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वीर जवान --
वीर जवान --
Seema Garg
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
..
..
*प्रणय प्रभात*
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
माँ ऐसा वर ढूंँढना
माँ ऐसा वर ढूंँढना
Pratibha Pandey
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...