Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गजल

अमन के रास्ते गीले नहीं थे
शहर के शख्स पथरीले नहीं थे

निभाते थे सभी मिलकर वफायें
यहाँ इन्सान जहरीले नहीं थे

जुबां दे दी अगर तो बात पक्की
कभी वादों के रेतीले नहीं थे

मिला करते हैं पग-पग पर उछल कर
ये धोखे तेज फुर्तीले नहीं थे

गले मिलना चहक कर बात करना
इन्हीं अादत में शर्मीले नहीं थे

*************************************

सोमनाथ शुक्ल
इलाहाबाद

2 Comments · 293 Views
You may also like:
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
परिंदों सा।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
आज के नौजवान
DESH RAJ
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️हम सब है भाई भाई✍️
"अशांत" शेखर
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H. Amin
✍️पत्थर✍️
"अशांत" शेखर
मानवता
Dr.sima
बरसात
मनोज कर्ण
✍️वो भूल गये है...!!✍️
"अशांत" शेखर
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
Loading...