Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

गजल

अमन के रास्ते गीले नहीं थे
शहर के शख्स पथरीले नहीं थे

निभाते थे सभी मिलकर वफायें
यहाँ इन्सान जहरीले नहीं थे

जुबां दे दी अगर तो बात पक्की
कभी वादों के रेतीले नहीं थे

मिला करते हैं पग-पग पर उछल कर
ये धोखे तेज फुर्तीले नहीं थे

गले मिलना चहक कर बात करना
इन्हीं अादत में शर्मीले नहीं थे

*************************************

सोमनाथ शुक्ल
इलाहाबाद

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 460 Views
You may also like:
*आई भादो अष्टमी*【 कुंडलिया 】
Ravi Prakash
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
Mohd Talib
Mohd Talib
■ खुला दावा
*Author प्रणय प्रभात*
एक अलबेला राजू ( हास्य कलाकार स्व राजू श्रीवास्तव के...
ओनिका सेतिया 'अनु '
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
व्याभिचार
Pratibha Kumari
कोई बात भी नहीं है।
Taj Mohammad
एक रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
★उसकी यादें ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
असली नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूल जाने की क्या ज़रूरत थी
Dr fauzia Naseem shad
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
Buddha Prakash
मेरे बिना तुम जी नहीं सकोगे
gurudeenverma198
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
रात की आगोश में
Kaur Surinder
तब मैं कविता लिखता हूँ
Satish Srijan
✍️जिंदगी का बोझ✍️
'अशांत' शेखर
प्यार का मंज़र .........
J_Kay Chhonkar
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
भोजपुरी ग़ज़ल
Mahendra Narayan
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of...
अमित कुमार
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu hai na'
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...