Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2022 · 1 min read

गजल

एक भी आंसू न बहना चाहिए,
दर्द को चुपचाप सहना चाहिए।

एक ओछी बात या तकरार को,
चार लोगों में न कहना चाहिए।

प्रेम की खुश्बू बिखर जाए मगर,
नफरती दीवार ढहना चाहिए ।

मुश्किलों से सामना करते रहो,
जिंदगी महफूज रहना चाहिए।

तुम किसी के मीत बन जाओ सहज,
सादगी का एक गहना चाहिए।

जगदीश शर्मा सहज

Language: Hindi
Tag: गज़ल
2 Likes · 1 Comment · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
Have faith in your doubt
Have faith in your doubt
AJAY AMITABH SUMAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
DrLakshman Jha Parimal
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
मेरे   परीकल्पनाओं   की   परिणाम   हो  तुम
मेरे परीकल्पनाओं की परिणाम हो तुम
पूर्वार्थ
*रंग पंचमी*
*रंग पंचमी*
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दास्तां
दास्तां
umesh mehra
"ताले चाबी सा रखो,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
💐प्रेम कौतुक-429💐
💐प्रेम कौतुक-429💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
"अपने हक के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
Loading...