Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

*गगन में चौथ के भी चंद्र का टुकड़ा जरा कम है (मुक्तक)*

गगन में चौथ के भी चंद्र का टुकड़ा जरा कम है (मुक्तक)
_________________________
जगत में पूर्णता की लालसा जीवन का बस भ्रम है
कभी कुछ छूटना-पाना रहा जीवन का ही क्रम है
धरा पर किस तरह परिपूर्ण मिल पाऍंगे पति-पत्नी
गगन में चौथ के भी चंद्र का टुकड़ा जरा कम है
—————————————-
चौथ = करवाचौथ
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
💐प्रेम कौतुक-340💐
💐प्रेम कौतुक-340💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
व्यक्तिगत न्याय
व्यक्तिगत न्याय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
आईना ही बता पाए
आईना ही बता पाए
goutam shaw
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पिता
पिता
Manu Vashistha
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
बस यूँ ही...
बस यूँ ही...
Neelam Sharma
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
*Author प्रणय प्रभात*
उसने
उसने
Ranjana Verma
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
2945.*पूर्णिका*
2945.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...