Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2016 · 1 min read

गंगा-स्नान

गंगा-तट पर जाकर भी ना,
है पापों का भान l
कौन कराएगा प्यारे,
गंगा को स्नान l
गंगा तट पर जाकर भी…l

करके पावन जल को मैला,
डुबकी मारें ‘नंगे’l
इधर बहाएें कूड़ा-करकट,
उधर जपें ‘जय गंगे’ l
भरेगा विष भागीरथी में,
करेगा विष का पान l
कौन कराएगा प्यारे,
गंगा को स्नान l
गंगा तट पर जाकर भी…l

गंगा रो-रो कर अपने,
बच्चों से है यह कहती l
“कलि-काल में आकर मैं,
असुरों की कै़द में रहती” l
इसकी कल-कल से ही क़ायम,
है यह हिन्दोस्तान l
कौन कपाएगा प्यारे,
गंगा को स्नान l
गंगा-तट पर जाकर भी…l

दुनियां जब हँसकर कहती है-
“प्रखर” की हिल गई चूलें” l
मैं भी हँसकर कह देता हूँ –
नहीं कभी हम भूलें l
गंगा होगी निर्मल तो,
होगा नवयुग सन्धान l
कौन कराएगा प्यारे,
गंगा को स्नान l
गंगा-तट पर जाकर भी न…l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
When compactibility ends, fight beginns
When compactibility ends, fight beginns
Sakshi Tripathi
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
याराना
याराना
Skanda Joshi
"आत्ममुग्धता"
Dr. Kishan tandon kranti
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* नदी की धार *
* नदी की धार *
surenderpal vaidya
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
💐अज्ञात के प्रति-47💐
💐अज्ञात के प्रति-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...