Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

ख्वाहिश

कान्हा यही ख्वाहिश है
ये ही आरज़ू।
तू मेरे रू-ब-रु हो
मैं तेरे रू-ब-रू।
दीदार कान्हा तेरा
होता है चार-सू ।
रखना यूँ ही मुहब्बत
तू मुझसे बा-वज़ू।
नस – नस तुम्हीं कन्हाई
तुम ही तो हो लहू।
हमदम हो आइने से
सँग मेरे हू-ब-हू ।
अपलक तुम्हें निहारूं
बे-सब्र दिल की ख़ू
है बाँसुरी तुम्हारी
ख़ुश्बू से गुफ़्तुगू।
सच झूठ मेरा मोहन
सब तेरे रु-ब-रू।
रखना सदा मुरारी
‘नीलम’ की आबरू।
नीलम शर्मा ✍️
ख़ू- आदतचार-सू-चारों दिशा बा-वज़ू-पवित्र

Language: Hindi
2 Likes · 450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
LEAVE
LEAVE
SURYA PRAKASH SHARMA
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
नारा है या चेतावनी
नारा है या चेतावनी
Dr. Kishan tandon kranti
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
Dr Mukesh 'Aseemit'
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
वो ख्वाबों ख्यालों में मिलने लगे हैं।
वो ख्वाबों ख्यालों में मिलने लगे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
.
.
*प्रणय प्रभात*
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
बार-बार लिखा,
बार-बार लिखा,
Priya princess panwar
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
हर रोज़ मेरे ख़्यालों में एक तू ही तू है,
हर रोज़ मेरे ख़्यालों में एक तू ही तू है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...