Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 1 min read

खोट (लघुकथा )

पिता और छोटे भाई का अंतिम संस्कार कर गाँव के लम्बे सफर से बदहाल लौटे रामचरण रिक्शे से उतरे ही थे कि पड़ोसी निलय आ गया.

“प्रणाम चाचाजी”

“खुश रहो बेटा.”

“चाचा जी , आपके घर जो हो रहा हैं वह ठीक नही हैं, मैं तो पुलिस बुलाने वाला था।”

“पुलिस ! ….क्यों ?”

“परसों आधी रात को सुहानी दीदी बचा लेने की गुहार कर रही थी और मेरे घर में आसरा मांग रही थी. बता रही थी कि भैया ने मारपीट की तो भाभी ने भाग जाने की सलाह देकर घर से बाहर भेज दिया.”

“लेकिन …”

“लेकिन क्या चाचाजी, आप ही बताइये कैसे रखता जवान लड़की को अपने घर में? और फिर जो अपनी सगी बहन के साथ ऐसा कर सकता है वो मेरे साथ …”

“लेकिन मुझे तो बहू ने फोन पर बताया कि सुहानी भाग गई है. इतनी दूर से मैं कर भी क्या लेता? इसी कारण तो जल्दी लौटा हूँ नहीं तो तेरहवीं के बाद ही वापिस आता.”

“आपका लिहाज ना होता तो दोनों को जेल में चक्की पिसवा देता।”

रामचरण जी अवसाद में घिरते बुदबुदा उठे ” मैंने अपने बच्चों में कभी कोई अंतर नहीं रखा।सदैव आपस में सम्मान करना ही सिखाया। फिर बच्चों में मूल्यों और संस्कारों के किले क्यों ढह रहे हैं ?क्या खोट रह गयी मेरी परवरिश में ?”

Language: Hindi
1 Like · 506 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुनना किसी एक को
चुनना किसी एक को
Mangilal 713
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
2261.
2261.
Dr.Khedu Bharti
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ुद से हमको
ख़ुद से हमको
Dr fauzia Naseem shad
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
Loading...