Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 2 min read

खोखला वर्तमान

भारतीय परिवेश की सभ्यता और संस्कृति,
के साथ साथ,
विभिन्न आयामों में बहुआयामी
चहुंमुखी विकास उन्नत क्यों नहीं हो पाया,

क्या देश ने अपनी गुलामी के कारणों का अध्ययन नहीं किया,
लगता है हमारे बिखराव की वजह से ऐसा हुआ,

सामाजिक न्याय की प्रक्रिया ठीक नहीं रही,
अर्थव्यवस्था को लेकर आबंटन ठीक नहीं रहे,
समानता बंधुत्व संगठित करने वाले आधार पैदा ही नहीं हुए,
वर्ण-व्यवस्था के प्रयोग ने,
खंड खंड विभेदक आधार रख दिया,
स्पृश्य और अस्पृश्यता,
मानवीय मूल्यों और संवेदनाओं को भूल गये,
और ऐसे कृत्य ही सभ्यता और संस्कृति बन गई,
पाप को ही पुण्य मानने लगे हो,
और पाप के दायरे के साथ,
अपवाद स्वरूप जगह छोड़ दी हो.
जैसे युगों का समायोजन.
सत् युग
त्रेता
द्वापर और
कलियुग,,,,
.
अधिकतर रहस्यदर्शी वैज्ञानिक थ्योरी तथा सिद्धांत देने वाले खोजी,
ऐसी किसी भी तरह की संभावनाओ को नकार देते है, वजह पौराणिक मान्यताओं का समावेश,
एक mythological proceedings.
.
त्रेता
और
द्वापर पर नजर डालें,
तो इस काल में क्या हुआ,,
सामाजिक व्यवस्था में
वर्ण-व्यवस्था और जातिये संरचना को मजबूती दी गई, मगर अंध-श्रद्धा /अंध-आस्था /अंध-विश्वास को आधार बना कर,,
उस और ध्यान आकर्षित होने न देना भी,
एक मूर्छा बेहोशी लोभ लालच, स्वर्ग-नरक का खौफ पैदा किया गया,
और समय समय पर उसे पक्का भी.
जो आज भी जारी है,
मानव जगत में मनुष्य को,
एक समान दृष्टि से न देखकर,
हुनरमंद कौम का तिरस्कार,
अतीत की गुलामी और भविष्य की परतंत्रता
की बेड़ियां है,
जिन्हें जल्द से जल्द न तोड़ा गया तो,
यह देश विकासशील देश से गरीब देश बन चुका है,
अगला पड़ाव, भुखमरी, कुपोषण, अंतर्कलह, अंतर्द्वंद, छ्द्म विनाश की ओर जायेगा.

Language: Hindi
461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
देता मगर न वोट , अश्रु से रोता नेता (हास्य कुंडलिया)
देता मगर न वोट , अश्रु से रोता नेता (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
आओ नया निर्माण करें
आओ नया निर्माण करें
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
हुनर है मुझमें
हुनर है मुझमें
Satish Srijan
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
होली -रमजान ,दीवाली
होली -रमजान ,दीवाली
DrLakshman Jha Parimal
हर किसी का एक मुकाम होता है,
हर किसी का एक मुकाम होता है,
Buddha Prakash
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
Loading...