Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2019 · 1 min read

खोई हुई आजादी

खोई हुई आजादी

मैं ढूंढ रहा हूँ
अपनी खोई आजादी
मजहबी नारों के बीच
न्यायधीश के दिए निर्णयों में
संविधान के संशोधनों में
लालकिले की
प्रचीर से दिए
प्रधानमंत्री के भाषणों में
चुनाव पूर्व
राजनेताओं द्वारा
किए वादों में

लेकिन नित के
ऑनर कीलिंग के समाचार
अनियन्त्रित-हिंसक
दंगाई भीड़
उजड़ती झुग्गी-बस्तियाँ
यौन पीड़िता की चीखें
दे रही हैं
सशक्त गवाही
कहीं भी
आजादी न होने की

-विनोद सिल्ला©

Language: Hindi
1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
New Beginnings. 🌻
New Beginnings. 🌻
पूर्वार्थ
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
उसे भूला देना इतना आसान नहीं है
उसे भूला देना इतना आसान नहीं है
Keshav kishor Kumar
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
NUMB
NUMB
Vedha Singh
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
*दिल से*
*दिल से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
कदम जब बढ़ रहे
कदम जब बढ़ रहे
surenderpal vaidya
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
Loading...