Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 1 min read

खेल जगत का सूर्य

रन का जैसे यंत्र है, करता रन बौछार।
खेल जगत का सूर्य है, अपना सूर्य कुमार।
अपना सूर्य कुमार, मार से हक्का बक्का।
रह जाते हैं लोग, देखकर इसका छक्का।
हुआ चहेता आज, खिलाड़ी यह जन जन का।
करता है साकार, स्वप्न यह सबके मन का।।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 15/12/2023

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
कवि दीपक बवेजा
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
यूँ ही
यूँ ही
Satish Srijan
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
पहला प्यार - अधूरा खाब
पहला प्यार - अधूरा खाब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
💐प्रेम कौतुक-329💐
💐प्रेम कौतुक-329💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...