Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2023 · 1 min read

खेल करे पैसा मिले,

खेल करे पैसा मिले,
नट जैसी तकदीर
घूम रही जनजातियाँ,
बदली ना तस्वीर
—महावीर उत्तरांचली

186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
ज़ुल्मत की रात
ज़ुल्मत की रात
Shekhar Chandra Mitra
जीवन में भी
जीवन में भी
Dr fauzia Naseem shad
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
*शून्य में विराजी हुई (घनाक्षरी)*
*शून्य में विराजी हुई (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
केवल मन में इच्छा रखने से जीवन में कोई बदलाव आने से रहा।
केवल मन में इच्छा रखने से जीवन में कोई बदलाव आने से रहा।
Paras Nath Jha
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
Loading...