Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 3 min read

खेल और राजनीती

ये बहुत ही अफसोस की बात है हम विश्वकप क्रिकेट का अंतिम मैच नही जीत पाए शुरू में कमजोर लगनेवाली ऑस्ट्रेलिया टीम से हार गए। आखिर खेल है इसमें हार जीत लगी रहती है बस इतनी सी बात बोलकर हम खुद को तसल्ली दे रहे है मगर अस्सल में जहाँ एक मजबूत भारतीय टीम जो लगातार अपने बाहुबली प्रदर्शन से दस मैच जीत कर अंतिम मुकाबले तक पहुँची और विश्वकप 2023 में शामिल होनेवाली हर एक टीम को हराया है ये एक भारतीय टीम के खिलाडियों का मानसिक तथा शारीरिक रूप से मजबूत तथा सक्षम होने का प्रमाण है। न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल तक भारतीय टीम पूरी तरह मैदान में स्पार्टन के तरह लड़ते नजर आती है और अंतिम फाइनल में ऐसा क्या हो गया कि बैटिंग में भारतीय टीम संभल नही पाई? फेसबुक व्हाट्सअप और इंस्टा के सोशल मीडिया यूनिवर्सिटी से बहुत से लेख पढ़ने के बाद कुछ बाते सामने आती है उसपर भी हम सोच सकते है

1. आप भूतकाल में कितने सफल (कल तक) हो मायने नही रखता,कल की मेहनत आपके काम नही आएगी आपको आज सफल होने के लिए आज मेहनत करनी पड़ेगी तो हमारे सफल होने के ज्यादा चांस बढ़ सकते है।

2.आपकी मेहनत,आपकी स्किल और आपके भूतकाल के सफलता से ज्यादा आज सफलता के लिए की जानेवाली स्ट्रेटेजी (strategies) महत्त्वपूर्ण होती है।

3. आपके टीम के सफल होने के क्या प्रोसेस है? उस पर ज्यादा फोकस करना जरूरी था ना की सफलता को धर्म,जाती, अभिमान,इमोशन और राजकारण से जोड देना

4.आपकी टीम में खेलनेवाले सहयोगी हर मैच में बेस्ट दे सकते है इस बात पर विश्वास न रखते हुए आपको एक लीडर की तरह नेतृत्व करना है जब तक आप मैदान में है।

5.हर बार खेलने की एक ही तरीका आपको सफल बना सकता है इस वहम में आपकी जीत तय नही होती।जिस तरह चेस में हमेशा अलग स्ट्रेटेजी का इस्तेमाल किया जाता है और बाज़ी जितने के लिए तरीके बदलने पड़ते है। हर खेल में यह लागू होता है जैसे रोहित के खेलने के तरीके से ऑस्ट्रलियन खिलाडी परिचित थे यहाँ अलग स्ट्रेटेजी का प्लानिंग करना जरुरी था।

6.भारतीय लोगो को और खिलाड़ियों को एक सिख लेना जरूरी है के होमहवन,महाआरती, पूजाअर्चा, झूठी भविष्यवाणी, दाया या बाया पैड पहले पहनना ये सब बाहर की बातें आपको कुछ पल के लिए समाधान देगी मगर जो जितने का जुनूँ है वो जज़्बा आप अंदर से कितने मजबूत हो इसपर निर्भर करता है।

7.जो टीम लीडर या कप्तान होता है उसका एक मेंटल स्ट्रेटेजी का पैटर्न होना चाहिए जो विरोधी टीम तथा खिलाड़ियों पर मानसिक आघात करे । अपने सपनो को मीडिया के सामने रखने का “Mental Breaking Pscycology Pattern” होता है जो ऑस्ट्रलिया के कप्तान ने करके दिखाया के हमें 1.3 लाख भारतीय को शांत बिठाना है क्यूँ तो भारतीय खिलाड़ियों को मिलनेवाला मानसिक बल और आधार भारतीय टीम के लिए समर्थनिय है, ये उनकी ऑस्ट्रेलिया टीम पर हावी हो सकता है।जब सफल होने के लिए एक ही बात को बार बार दोहराया जाता है तो उसका एक मानसिक दबाव भी विरोधियो पे तैयार होता है जो भारतीय टीम पर तैयार हुवा और ना चौका/ना छक्का लग रहा था और लगातार विकेट से मैदान शांत हो रहा था और भारतीय खिलाड़ियों के हौसले टूट रहे थे।

8.खेल के प्रति देश में एक खेल भावना की मानसिकता लोगो में निर्माण करना जहाँ धर्म और राजकारण से इसे ना जोड़ा जाए आप खेल को धर्मयुद्ध में परिवर्तित करके और इसके फलस्वरूप आपका इसपर राजनितिक रोटी सेकना ऐसे गैरजरूरी मुद्दे को टालना जरुरी है।

क्या होता यदि हम 2023 का क्रिकेट विश्वकप जित लेते? क्या प्रिंट मीडिया,इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और ये अंधभक्तो का सोशल मीडिया ये एक अलग राजकीय मानसिकता और चुनावी मुद्दे के लिए इस्तेमाल करने पर आमादा रहता और कितने सारे पेज,संपादकीय लेख, स्तम्भलेख लिखे जाते ऐसे टाइटल के साथ जहाँ लिखा जाता के ‘अहमदाबाद मोदी स्टेडियम में पंतप्रधान मोदी की उपस्थिति में भारत क्रिकेट में विश्वगुरु बन गया’ और नजाने क्या क्या लिखा जाता मगर भारतीय खिलाड़ी तो तब भी हाथ मलते ही रह जाते और भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी के उपलब्धी का सारा का सारा श्रेय कोई और ही लेकर जाता… खेल और राजनीती ये दोनों अलग पहलु है और इन्हें अलग ही रखना जरुरी है वर्ना हर दफा करोडो भारतीयों को ऐसी ही निराशाजनक परिस्थिति का सामना बार बार करते रहना पड़ेगा

‘अशांत’ शेखर
नागपुर

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
राह
राह
Neeraj Mishra " नीर "
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" पलास "
Pushpraj Anant
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
sushil sarna
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
"दान"
Dr. Kishan tandon kranti
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बादल
बादल
Shankar suman
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-168दिनांक-15-6-2024 के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-168दिनांक-15-6-2024 के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
कभी तो फिर मिलो
कभी तो फिर मिलो
Davina Amar Thakral
Loading...