Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 1 min read

खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।

खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
सुख दुःख में से ही परमानंद इसका लेना है।।
गुज़र जाती है जिंदगी पता कहां चलता है जी।
जियो _ जीने दो “अनुनय” सबसे कह देना है।।
राजेश व्यास “अनुनय”

1 Like · 685 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
Phool gufran
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
श्रेष्ठ वही है...
श्रेष्ठ वही है...
Shubham Pandey (S P)
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
मेरी (उनतालीस) कविताएं
मेरी (उनतालीस) कविताएं
श्याम सिंह बिष्ट
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
अरमान
अरमान
Kanchan Khanna
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हथेली पर समय-रेखा, लिखा कर लोग आते हैं (मुक्तक)
हथेली पर समय-रेखा, लिखा कर लोग आते हैं (मुक्तक)
Ravi Prakash
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
"दुःख-सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...