Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,

खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
मैं खुद आग का दरिया हूँ, ना समझो जल जाऊंगा।
पूरी होगी जब तैयारी, देखेगा अम्बर सारा,
वादा है तुमसे सूरज, इक दिन मिलने आऊंगा

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सड़क पर उतरना होगा
सड़क पर उतरना होगा
Shekhar Chandra Mitra
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
कामयाब
कामयाब
Sushil chauhan
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो भी मिलता है दिलजार करता है
जो भी मिलता है दिलजार करता है
कवि दीपक बवेजा
करतूतें किस को बतलाएं
करतूतें किस को बतलाएं
*Author प्रणय प्रभात*
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहब्बत का इंतज़ार
मोहब्बत का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
जाते हो किसलिए
जाते हो किसलिए
Dr. Sunita Singh
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
कुछ तो रिश्ता है
कुछ तो रिश्ता है
Saraswati Bajpai
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
पूर्वार्थ
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऋतु बसन्त आने पर
ऋतु बसन्त आने पर
gurudeenverma198
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh Manu
सच्ची पूजा
सच्ची पूजा
DESH RAJ
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYAA
Loading...