Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2022 · 1 min read

. खुशी

जब गम के कुहासे को चीर, आशा की रोशनी आ गई,
ऐसा लगा कि ज़िन्दगी में इक और ज़िन्दगी आ गई ।
चल पड़े कदम खुद ब खुद अपनी मंजिल की ओर,
मेरे दामन में अनायास ही हर एक खुशी आ गई ।।
©वन्दना नामदेव

Language: Hindi
194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
* बातें व्यर्थ की *
* बातें व्यर्थ की *
surenderpal vaidya
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
दो शब्द
दो शब्द
Ravi Prakash
"मूल"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
शेखर सिंह
फागुन
फागुन
Punam Pande
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
Dr fauzia Naseem shad
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...