Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

खुशियों का भंडार अपना परिवार

सभी खुशियों की चाबी मनुष्य का अपना परिवार है।
कोई दुःख छु भी नहीं सकता यदि आपस में प्यार है।

बताओ दूसरों में अपनों को खोजते ही क्यों हो तुम,
जब अपनों को ही तुमने स्वंय कर रखा दरकिनार है।

जिंदगी के हर एक तजुर्बे से गुजरे होते हैं हमारे पिता,
इसीलिए कहा गया पिता को सबसे बड़ा सलाहकार है।

पिता की नेक सलाह से घर संसार स्वर्ग बन जाता है,
स्वर्ग सी जिंदगी का दुनिया में रहता सबको इंतजार है।

माँ के आँचल से बढ़कर कहीं नहीं मिलता सुकून है,
गम और दुःख की थकान मिटा देता माँ का दुलार है।

भाई के बारे में कहूँ क्या, मेरे पास शब्द ही नहीं बचे हैं,
बस इतना समझ लो हर सुख दुःख का भाई भागीदार है।

दुनिया में सबसे बड़ी शुभचिंतक अपनी बहन होती है,
बहन का प्यार तो उस भगवान का अनुपम उपहार है।

पति से बड़ा कोई मित्र नहीं जो अनकही भी समझता है,
पति पत्नी के सामंजस्य से ही खुशियों की आती बहार है।

हमारे इन रिश्तों में चाहे कितनी ही कड़वाहट आ जाए,
पर दिलों में एक दूसरे के प्रति रहती हमदर्दी बरकरार है।

सुलक्षणा संभाल कर रखना तुम अपने घर परिवार को,
अपने परिवार के बिना मनुष्य हो जाता यहाँ लाचार है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Comment · 347 Views
You may also like:
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संस्कार - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपनो को।
Pradyumna
लोकतंत्र में तानाशाही
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्या हाल है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
मरने के बाद।
Taj Mohammad
जिंदगी तुमसे जीना सीखा
Abhishek Pandey Abhi
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
वार्तालाप….
Piyush Goel
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
आज भी हमें प्यार पुराना याद आता है./लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
बेशक
shabina. Naaz
ये बारिश की बूंदें ऐसे मुझसे टकराईं हैं।
Manisha Manjari
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करता कौन जाने
Varun Singh Gautam
हर्षवर्धन महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌹खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
कहानी
Pakhi Jain
मौन भी क्यों गलत ?
Saraswati Bajpai
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
मौत किसी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...