Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा

खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खामखा फिर आईने तक जाना पड़ा
-सिद्धार्थ

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
कहने को हर हाथ में,
कहने को हर हाथ में,
sushil sarna
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
*Author प्रणय प्रभात*
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
Atul "Krishn"
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
फिर भी करना है संघर्ष !
फिर भी करना है संघर्ष !
जगदीश लववंशी
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कया बताएं 'गालिब'
कया बताएं 'गालिब'
Mr.Aksharjeet
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
चॅंद्रयान
चॅंद्रयान
Paras Nath Jha
Loading...