Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना

खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बनाओ
आज कल दोस्त रिश्ते प्यार ये सब आपको वजूद के मुरीद है,

तो खुद के प्राथमिकता को वक्त दो
ना बोलने को सीखो
जाने देने को सीखो
जो रुके उसका सम्मान करो
जो चला जाए उसको रोको मत

जो नियत से जुड़ा रहेगा वो हर वक्त होगा
जो वक्त, और जरूरत से जुड़ा होगा उसका मियाद पूरा होने पर चला जायेगा

234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तब पता चलेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
भगवान श्री परशुराम जयंती
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
..........?
..........?
शेखर सिंह
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Love Night
Love Night
Bidyadhar Mantry
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
एक बार नहीं, हर बार मैं
एक बार नहीं, हर बार मैं
gurudeenverma198
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लड़को की समस्या को व्यक्त किया गया है। समाज में यह प्रचलन है
लड़को की समस्या को व्यक्त किया गया है। समाज में यह प्रचलन है
पूर्वार्थ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आहट
आहट
इंजी. संजय श्रीवास्तव
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
Loading...