Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।

खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
मुझे गमले में खिलाने की ना कोशिश करना।।

2 Likes · 142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
तुम्हारे इश्क़ की तड़प जब से लगी है,
तुम्हारे इश्क़ की तड़प जब से लगी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*प्रणय प्रभात*
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
2806. *पूर्णिका*
2806. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
किसी से उम्मीद
किसी से उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
वैवाहिक चादर!
वैवाहिक चादर!
कविता झा ‘गीत’
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
*अध्याय 4*
*अध्याय 4*
Ravi Prakash
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
sudhir kumar
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
Loading...