Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे

खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे।
कल को हम करेंगे क्या, कुछ नहीं बोलेंगे।।
खामोश रहेंगे अभी तो————————।।

हम देख रहे हैं तुमको, क्या कर रहे हो तुम।
किसको तुम रुला रहे हो, किसको हंसा रहे हो तुम।।
होगी कैसी तस्वीर तेरी कल, कुछ नहीं बोलेंगे।
खामोश रहेंगे अभी तो———————-।।

मालूम है हमको भी तुमने, महफ़िल सजाई है।
कहाँ किया तुमने अंधेरा, शमां कहाँ जलाई है।।
कितने दिन तुम रोशन रहोगे, कुछ नहीं बोलेंगे।
खामोश रहेंगे अभी तो———————–।।

क्या हमारे सपनें हैं, और मंजिल कहाँ हमारी है।
कितने हम होंगे विजय, और हस्ती क्या हमारी है।।
वक़्त ही बतायेगा यह तो, कुछ नहीं बोलेंगे।
खामोश रहेंगे अभी तो———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हया
हया
sushil sarna
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ये मेरा स्वयं का विवेक है
ये मेरा स्वयं का विवेक है
शेखर सिंह
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*Author प्रणय प्रभात*
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हरा-भरा बगीचा
हरा-भरा बगीचा
Shekhar Chandra Mitra
"प्रेम और क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...